इन 2 दिनों में लोगों ने प्लास्टिक के गिलासों मैं शीतल जल पिलाकर विश्व पर्यावरण दिवस की उड़ाई धज्जियां

 इन 2 दिनों में लोगों ने प्लास्टिक के गिलासों मैं शीतल जल पिलाकर विश्व पर्यावरण दिवस की उड़ाई धज्जियां।

                यह फोटो विकासखंड शाहबाद का है

संवाददाता सुनील कुमार की रिपोर्ट।

मामला रामपुर की शाहबाद का है। जहां पावन दशहरा के अवसर पर समाजसेवी लोगों ने शीतल जल पिलाकर सेव नर सेवा नारायण सेवा का संदेश दिया। वहीं क्षेत्र के लोगों ने ठंडा मीठा पानी प्लास्टिक के गिलास में पिलाया जिससे प्रदूषण को बढ़ावा दिया गया। जैसे ही जून का महीना आता है। हम सभी का ध्यान विश्व पर्यावरण दिवस की ओर चला जाता है। 

कुछ ही दिनों बाद 5 जून आने वाली है देश का हर एक व्यक्ति विश्व पर्यावरण दिवस मनाएगा। नेता अधिकारी कर्मचारी समाजसेवी सभी मिलकर कसम खाएंगे कि प्रदूषण नहीं फैलायेगे। एक तरफ तो प्रदूषण खत्म करने की बात करते हैं दूसरी ओर खुद ही अपने हाथों से प्लास्टिक के क्लास में शीतल जल पिलाकर प्रदूषण फैलाने का काम कर रहे हैं।

आज शाहबाद विकासखड पर बैठक क्षेत्र पंचायत का आयोजन हुआ इसमें प्रशासन की ओर से शीतल जल पिलाने की व्यवस्था की गई लेकिन प्लास्टिक के गिलासों में शीतल जल पिलाया गया। आप फोटो में देख रहे होंगे विकासखंड शाहाबद के गेट परप्लास्टिक के गिलासों का ढेर लगा हुआ था।

प्रशासन खुद इस तरह की हरकत करेगा तो समाज को कैसे रोक सकता है। इस तरह के कारनामे को देखकर महसूस होता है कि प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारी खुद प्रदूषण फैलाने का काम कर रहे हैं फिर दूसरे को कैसे रोक सकते हैं। अभी बीते 2 दिन पहले रामपुर के डीएम साहब ने आदेश दिए थे कि पॉलिथीन और प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाई जाए। लेकिन नेता और प्रशासनिक अधिकारी डीएम साहब के आदेशों को पलीता लगाते हुए नजर आए।

यह मामला केवल शाहबाद का ही नहीं पूरे देश का यही हाल है मुंह से लोग पर्यावरण को शुद्ध करने की बात कहते हैं लेकिन हाथों से प्रदूषण फैलाते हैं। दुख तो जब होता है जब नेता और सरकारी कर्मचारी समझदार खुद अपने हाथों से प्रदूषण फैलाते हैं। बीते समय में ऐसा भी सुनने में आया था कि सरकार की ओर से आदेश हुआ था किसी भी सरकारी कार्यालय या मीटिंग में प्लास्टिक की पानी की बोतल यूज़ नहीं की जाएगी।

लेकिन आज भी हर काउंटर पर ऑफिस में मीटिंग में अधिकारी और कर्मचारी नेताओं के आगे प्लास्टिक की पानी की बोतल ही नजर आती है। समय रहते अगर देश का एक-एक नागरिक नहीं जागा तो आने वाली नस्लें बर्बाद हो जाएंगी।

अगर आप चाहते हैं देश से प्रदूषण खत्म हो तो इस खबर को हर एक अधिकारी कर्मचारी मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री आम जनता तक पहुंचाने का प्रयास करें।

हो सकता है हमारे इस प्रयास से देश से प्रदूषण खत्म हो जाए।



INDIA STRONG NEWS

News portal

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने